कैबिनेट मीटिंग में स्वास्थ्य मंत्री की शिकायत पर भड़के नीतीश ने प्रधान सचिव की जमकर लगाई क्लास

0
95

बिहार में कोरोना संक्रमण की लगातार बढ़ रहे केस को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शनिवार को कैबिनेट मीटिंग ली। मीटिंग के दौरान ही अचानक ही स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय मीटिंग ने स्वास्थ्य प्रधान सचिव की शिकायत करते हुए कहा कि वे उनकी बात सुनते ही नहीं हैं। 

इतना सुनना था कि मुख्यमंत्री नीतीश स्वास्थ्य प्रधान सचिव उमेश सिंह कुमावत भड़क उठे। इसके बाद मुख्यमंत्री ने प्रधान सचिव को जमकर फटकार लगाई। सीएम नीतीश ने स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव को कड़े लहजे में चेतावनी देते हुए कहा कि RTPC टेस्ट 20 हज़ार प्रतिदिन नही हुआ तो कारवाई के लिए तैयार रहें।

सीएम ने यहां तक कह डाला कि अगर आपसे विभाग नही संभालता तो छोड़िये विभाग को। सीएम ने कहा कि जब दिल्ली में रोज 38 हज़ार टेस्ट हो सकता है तो बिहार में क्यों नही? किसी भी हाल में मरीजों की जांच हो।

सीएम नीतीश ने यह निर्देश दिया कि अनुमंडलस्तरीय हॉस्पिटल में 100 बेड की व्यवस्था हो। हर बेड पर ऑक्सीजन की भरपूर व्यवस्था होनी चाहिए। जिलों के मरीजों को उनके जिले में ही इलाज की व्यवस्था सुनिश्चित कीजिए। सीएम ने कहा कि पिछले 14 साल में मेरे सामने ऐसे परिस्थिति नही आई। जल्द से जल्द जांच बढ़ायें नहीं तो कड़ी से कड़ी कारवाई के लिए तैयार रहिए।

LEAVE A REPLY